World Ozone Day 2019 : हर साल 16 सितंबर को अंतर्राष्ट्रीय ओजोन दिवस मनाया जाता है | ओजोन दिवस मनाने का मुख्य उददेश्य ओजोन परत को हो रही हानि को लेकर लोगों को जागरूक करना | इस दिन लोगों को पर्यावरण के महत्व और इसे सुरक्षित रखने के लिए के जानकारी दी जाती हैं | पृथ्वी के  सतह से कोसों दूर ऊचाई पर ओजोन गैस की एक पतली परत पाई जाती हैं | ओजोन की ये परत सूर्य से आने वाली अल्ट्रावॉयलेट रेडिएशन को सोख लेती है | अल्ट्रावॉयलेट रेडिएशन अगर बिना ओजोन परत पर पड़े धरती पर पड़ जाए तो इससे मानव जाति और पर्यावरण, जानवरों व पक्षियों आदि सभी धरती पर रहने वाले सभी जीवों को नुकसान दायक यह अल्ट्रावॉयलेट रेडिएशन हो सकती है | सूर्य से सीधी धरती पर पड़ने वाली अल्ट्रावॉयलट रेडिएशन बहुत ही खतरनाक होती है | इसके प्रभाव से लोगों को जर्म रोग , कैँशर जैसी भयानायक बीमारियां लोगों को हो सकती है | ओजोन की परत इस रेडिएशन को सोखकर हमारे जीवन की रक्षा करती हैं | इसलिए पृथ्वी रहने वाले सभी जीव-जन जातियों के लिए यह ओजोन परत बहुत आयश्यक हैं |

World Ozone Day 2019

ओजोन परत :-

सूर्य से आने वाली अल्ट्रावॉयलेट रेडिएशन से ओजोन परत हमें बचाती हैं | लेकिन जहरीली गैसों से ओजोन परत में एक छेद हो गया है | मानव जीवन में इस्तेमाल करने वाले एसी  कूलर जैसे उत्पादो  व जेट विमानों  निकलने वाली नाइट्रोजन आक्साइड ओजोन मात्रा कम करने मदद करती है | ओजोन परत का एक छेद अंटार्कटिका के ऊपर स्थित है |

पराबैगनी किरणों से ओजोन परत को नुकसान :- 

सूर्य से आने वाली पृथ्वी पर पड़ने वाली पराबैगनी  (अल्ट्रावॉयलेट रेडिएशन ) एक किरण है | जिसमें  ऊर्जा सबसे अधिक पाई जाती है जो ओजोन परत को पतला कर रही हैं | अल्ट्रावायलेट रेडिएशन की बढ़ती मात्रा से चर्म रोग , कैंसर , आँखों को अँधा होने के साथ शरीर में रोगों से लड़ने की क्षमता कम हो जाती है | इस अल्ट्रावॉयलेट का असर सूक्ष्म जीवों ,जैविक विविधता, फसलों का नष्ट होना,इसके साथ ही समुद्र में छोटे पोधों को नुक्सान पहुंचना इसके अलावा मछलियों व अन्य जीव जन्तुओ की मात्रा कम हो सकती हैं |  पृथ्वी रहने वाले सभी लोगों को ओजोन परत को नुकसान होने वाली चीजों से  बचाना बहुत आयश्यक हैं |   जीवन के लिए ओजोन परत बहुत आवश्यक हैं |  

ओजोन परत को नष्ट करने में लगे हैं लोग 

प्रकृति के कार्यो में मानव ने प्रकृति के सामने खुद आ गया  है | मानव जाति ने प्रकृति के कार्यों दख़ल अन्दाजी कर रहा हैं | जहाँ मानव का खुद विनाश हो सकता हैं | इंसानो ने जंगलो , वनों की अन्धाधुन कटाई कर रहा हैं जिससे वातावरण में अंसतुलन पैदा हो रही हैं | वाहनों से निकलने वाले धुएं ने हवा को प्रदूषित कर हैं इंसानो ने जल को भी प्रदूषित करना आरम्भ कर दिया | ओजोन परत को बचाने के लिए इन सब चीजों पर नियंत्रण करना होगा | 

 

Railway Group D Online Mock Test