Sushma Swaraj Passes Away | सुषमा स्वराज का निधन : भारत के पूर्व विदेश मंत्री सुषमा स्वराज का मंगलवार को देर रात दिल का दौरा पड़ने से निधन हो गया वह 67 सात वर्ष की थी सुषमा स्वराज को दिल्ली के एम्स हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया था सुषमा स्वराज ने धारा 370 पर सरकार को बधाई होते हुए लिखा कि मैं इसी दिन को देखने के लिए इंतजार कर रही थी अपने ट्वीट के बाद दिल का दौरा पड़ने से देर रात 10:15 बजे नाजुक हालत में उनको भर्ती कराया गया |

Sushma Swaraj Passes Away | सुषमा स्वराज का निधन

Sushma Swaraj Passes Away | सुषमा स्वराज का निधन
Sushma Swaraj Passes Away | सुषमा स्वराज का निधन

सुषमा स्वराज के पार्थिव शरीर को उनके घर लाया गया और अंतिम दर्शन के लिए रखा गया

पूर्व विदेश मंत्री सुषमा स्वराज देर रात निधन होने के बाद उनके पार्थिव शरीर को उनके घर लाया गया और सुबह 11:00 बजे तक उनके पार्थिव शरीर को उनके आवास पर अंतिम दर्शन के लिए रखा जाएगा |

लगभग दोपहर 12:00 से 3:00 बजे तक बीजेपी कार्यालय बीजेपी मुख्यालय में लोगों के अंतिम दर्शन के लिए रखा जाएगा 3:00 बजे के बाद उनकी अंतिम यात्रा शुरू हो जाएगी और उसके बाद उनके शरीर का दाह संस्कार किया जाएगा |

पूर्व विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने 2019 के चुनाव में भाग चुनाव न लड़ने का निर्णय लिया क्योंकि उनका स्वास्थ्य अच्छा नहीं चल रहा था इसलिए उन्होंने ऐसा फैसला लिया था उन्होंने अपनी तबीयत बिगड़ने से 3 घंटे पहले केंद्र की मोदी सरकार को बधाई होते हुए उन्होंने ट्वीट किया था कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी को बहुत-बहुत धन्यवाद |

सुषमा स्वराज के बारे में

  • पूर्व विदेश मंत्री सुषमा स्वराज का जन्म 14 फरवरी 1952 के हरियाणा राज्य के अंबाला छावनी में हुआ था उनके पिता का नाम श्री हरदेव और माता का नाम लक्ष्मी देवी था उनकी पिता जी RSS के प्रमुख सदस्य रहे थे सुषमा स्वराज का मूल रूप से घर लाहौर के धर्मपुरा क्षेत्र के निवासी थे |
  • जो अब पाकिस्तान में है सुषमा स्वराज ने अंबाला के सनातन धर्म कॉलेज से संस्कृत और राजनीति विज्ञान में ग्रेजुएशन किया सन 1970 में उन्हें अपने कॉलेज में सर्वश्रेष्ठ छात्रा के सम्मान से सम्मानित किया गया था |
  • वे लगभग 3 सालों तक लगातार एसडी कॉलेज छावनी की एनसीसी की सर्वश्रेष्ठ और 3 साल तक राज्य की श्रेष्ठ वक्ता भी चुनी गई |
  • वे लगभग 3 सालों तक लगातार एसडी कॉलेज छावनी की एनसीसी की सर्वश्रेष्ठ और 3 साल तक राज्य की श्रेष्ठ वक्ता भी चुनी गई |

सुषमा स्वराज का राजनीतिक जीवन

लगभग 70 साल पहले सुषमा स्वराज अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद से जुड़ गई थी उनके पति स्वराज कौशल सोशलिस्ट नेता जॉर्ज फर्नांडिस के करीबी थे इसी वजह से 1975 में फर्नांडिस की विधिक टीम का हिस्सा बन गई |

आपातकाल के समय जयप्रकाश नारायण के संपूर्ण क्रांति आंदोलन में उन्होंने बढ़-चढ़कर हिस्सा लिया और जब आपातकाल समाप्त हो गया तो वह जनता पार्टी के सदस्य बन गई सन् 77 में उन्होंने अंबाला छावनी विधानसभा क्षेत्र से हरियाणा विधानसभा के लिए विधायक का चुनाव जीता |

चौधरी देवीलाल की सरकार में सन 77 से 79 के बीच राज्य के श्रम मंत्री रहकर 25 साल की उम्र में कैबिनेट मंत्री बनने का रिकॉर्ड बनाया

उपलब्धियां

  • सन 1977 में देश की पहली केंद्रीय महिला मंत्रिमंडल के सदस्य बनी वह भी मात्र 25 वर्ष की उम्र में |
  • सन 1979 में 27 वर्ष की आयु में वह जनता पार्टी हरियाणा कि राज्य अध्यक्ष बनी सुषमा स्वराज भारत के किसी राष्ट्रीय राजनीतिक पार्टी की पहली महिला प्रवक्ता थी |

Muthulakshmi Reddy की 133 वी जयंती पर गूगल ने डूडल बनाकर याद किया

  • इनके अलावा भाजपा की पहली महिला मुख्यमंत्री केंद्रीय मंत्री महासचिव रोकता विपक्ष की नेता एवं विदेश मंत्री बने यह भारतीय संसद की प्रथम एवं एकमात्र ऐसी महिला सदस्य थे जिन्हें आउटस्टैंडिंग पार्लियामेंटेरियन सम्मान मिला है |
  • 4 राज्यों में 11 बार से चुनाव लड़ने और इसके अलावा हरियाणा में हिंदी साहित्य सम्मेलन की 4 वर्ष तक अध्यक्ष रही |