Muthulakshmi Reddy की 133 वी जयंती पर गूगल ने डूडल बनाकर याद किया : गूगल में पहली बार महिला विधायक Muthulakshmi Reddy का डूडल बनाकर 133 वी जयंती पर उन्हें याद किया मुथुलक्ष्मी रेड्डी एक विधायक के साथ-साथ एक समाज सुधारक ,सर्जन और एक भारतीय शिक्षक भी थी |

उन्होंने स्वास्थ्य के क्षेत्र में काम करने के साथ-साथ लिंगानुपात को बराबर करने तथा लड़कियों के जीवन को सुधारने के लिए काफी काम किया उन्होंने अपना जीवन समाज के लिए अर्पित कर दिया और उन्हें भारत देश का पहली महिला विधायक होने का गौरव प्राप्त है |

मुथुलक्ष्मी रेड्डी को तमिलनाडु के सरकारी अस्पताल में पहली महिला सर्जन के रूप में काम करने का गौरव हासिल हुआ मुथुलक्ष्मी रेड्डी का जन्म 1886 में तमिलनाडु के पुडुक्कोट्टाई में हुआ था सन 1912 में देश की पहली महिला डॉक्टर बनी  और मद्रास के सरकारी मातृत्व अस्पताल में पहली महिला सर्जन बनी |

मुथुलक्ष्मी रेड्डी की 133 वी जयंती पर गूगल ने डूडल बनाकर याद किया

Man Vs Wild : डिस्कवरी चैनल के फेमस शो में मोदी जल्द नजर आएंगे

मुथुलक्ष्मी रेड्डी के बारे में –

  • जन्म – 30 जुलाई 1886
  • मृत्यु – 22 जुलाई 1968 (उम्र 81 )
  •  प्रसिद्धि का कारण – समाजसुधार , महिला अधिकार , कार्यकर्ता और लेखिका
  • जीवनसाथी – सेंदरा रेड्डी
  • बच्चे – एस कृष्ण्मूर्ति (भाई ) , एस राम मोहन
  • पुरस्कार – पद्मभूषण

मुथुलक्ष्मी रेड्डी को बचपन से ही पढ़ने के लिए काफी कठिनाइयों का सामना करना पड़ा उनके पिता एस नारायण स्वामी चेन्नई महाराजा कॉलेज के प्रिंसिपल थे अपनी मेडिकल ट्रेनिंग के दौरान एक बार मुथुलक्ष्मी रेड्डी को कांग्रेस के एक नेता और स्वतंत्रता सेनानी सरोजिनी नायडू से मिलने का मौका मिला |

अनुच्छेद 370 को हटाया गया साथ में जम्मू कश्मीर और लेह लद्दाख को केंद्रशासित प्रदेश बनाने का घोषणा

इसी जगह से उन्होंने देश की आजादी के लिए कसम खा ली और इंग्लैंड जाकर आगे पढ़ने का मौका भी मिला लेकिन उन्होंने इसे छोड़ दिया और इंडियन एसोसिएशन के लिए काम करना इंपॉर्टेंट समझा |

मुथुलक्ष्मी रेड्डी को सन 1927 में मद्रास के लेजिस्लेटिव कौंसिल  से देश की पहली महिला विधायक बनने का सम्मान प्राप्त हुआ समाज और औरतों के लिए किए गए अपने काम के लिए काउंसिल में जगह दी गई थी और उन्हें 1956 में पद्म भूषण सम्मान से नवाजा भी गया |

उन्होंने कम उम्र में लड़कियों की शादी रोकने के नियम बनाएं और अनैतिक तस्करी नियंत्रण अधिनियम और देवदासी प्रथा उन्मूलन विधेयक पारित करने के लिए परिषद से आग्रह किया |