सौरभ गांगुली BCCI के नए अध्यक्ष बने : पूर्व भारतीय कप्तान सौरव गांगुली ने 23 अक्टूबर 2019 को भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड बीसीसीआई के नए अध्यक्ष का पदभार संभाल लिया है आपको बता दें कि वे बीसीसीआई की 39 में अध्यक्ष चुने गए हैं | बीसीसीआई ने ट्वीट करके सौरव गांगुली के अध्यक्ष बनने की जानकारी दी सुप्रीम कोर्ट द्वारा नियुक्त प्रशंसकों की समिति का 33 महीने से चला रहा है यह शासन अब खत्म हो गया बीसीसीआई अध्यक्ष पद के लिए सौरभ गांगुली का नामांकन सर्व सम्मानित से हुआ है |

सौरव गांगुली के अलावा केंद्रीय मंत्री अमित शाह के बेटे जय शाह को सचिव नियुक्त किया गया है केरल की जयेश जॉर्ज नए संयुक्त सचिव और उत्तराखंड के महिम वमार नए उपाध्यक्ष चुने गए हैं पूर्व बीसीसीआई अध्यक्ष अनुराग ठाकुर की छोटे भाई अरुण धूमल कोषाध्यक्ष बने हैं बीसीसीआई की नई टीम की नियुक्ति के साथ ही सुप्रीम कोर्ट द्वारा चुनी चुनी गई प्रशंसकों की समिति के 33 महीने के कार्यकाल का भी समापन हो गया | 

बीसीसीआई के नए अध्यक्ष के तौर पर सौरव गांगुली का कार्यकाल सिर्फ 10 महीने तक रहेगा बीसीसीआई के नए संविधान की अनुसार उन्हें अगले साल 3 सितंबर को कूलिंग ऑफ पीरियड में जाना होगा इसके अनुसार गांगुली अगले 3 वर्षों तक बीसीसीआई के किसी भी पल के लिए नियुक्त नहीं हो सकते हैं बीसीसीआई के नए नियमों के अनुसार एक प्रशासक केवल 6 साल तक अपनी सेवाएं दे सकता है ऐसे में बीसीसीआई के नए अध्यक्ष सौरव गांगुली 1 साल से भी कम समय के लिए बीसीसीआई अध्यक्ष रहेंगे | 

पूर्व भारतीय कप्तान सौरव गांगुली बाएं हाथ के बल्लेबाजों में से एक हैं उनसे उम्मीद की जा रही है की  बंगाल क्रिकेट संघ के सचिव और फिर अध्यक्ष के अपने पद का अनुभव का पूरा फायदा उठाएंगे | क्रिक्रेट टीम आगे ले जाने के लिए एक अच्छी रणनीति तैयार करेंगे | साथ ही सौरभ गांगुली का अनुभवी विकेटकीपर महेंद्र सिंह धोनी के अंतर्राष्ट्रीय भविष्य , दिन -रात्रि  टेस्ट और स्थायी टेस्ट केंद्रों पर उनका ध्यान भी अहम होगा | 

असम सरकार का बड़ा फैसला : असम में दो से अधिक बच्चे होने पर नहीं मिलेगी सरकारी नौकरी