विश्व राइनो दिवस कब और क्यों मनाया जाता है जानें : विश्व राइनो दिवस हर साल 22 सितंबर को मनाया जाता  हैं | विश्व में गैंडे की पांच प्रजातियां पाई जाती हैं | काला गैंडा, सफेद गैंडा , भारतीय गैड़ा, जावन गैंडा, सुमात्रान गैंडा | पहले दो प्रकार के गैंडे अफ्रीका में और तीन दक्षिण एशिया में में पाए जाते हैं |  

वर्तमान समय में गैंडे की प्रजातियां विलुप्त हो रही हैं इसकी प्रजातियों को  विलुप्त हो रहे गैंडे की प्रजातियों के बारे में जागरूकता फैलाने के लिए हर साल 22 सितंबर को गैंडा दिवस मनाया जाता हैं |

गैंडे का रंग स्लेटी रंग जैसा होता हैं भारतीय गैंडे के शरीर पर बाल नहीं पाए जाते , सिर्फ उनके कान,सिर और पूछ पर बाल पाए जाते हैं | गैंडे के नाखून हाथी जैसे बड़े होते हैं | गैंडे के बारे में सबसे विचित्र चीज है की गैंडे की थूथुन के ऊपर एक या डेढ़ फिट का सींग पाया जाता हैं | सिर्फ इसके सींग ही नहीं हजारों मोटो बालों वाला गुच्छा होता हैं जो ऊपर उठा होता है |

गैंडे की सींग की एक खास बात यह है की अगर इसका सींग टूट जाता हैं तो वह फिर से उग जाता हैं यह गैंडे की नर और दोनों में होते हैं | गैंडे के सिर उसके शरीर के आकर से बड़ा दिखने में लगता हैं साथ ही और  गैंडे की सुघने की शक्ति बहुत तेज होती हैं गैंडे को मानव की सुगन्ध पसंद नहीं होती है |

गैंडे में मादा एक बार में एक बच्चे को जन्म देती हैं उस समय बच्चे की सींग नहीं होती हैं बच्चा जैसे जैसे बड़ा होता है उसकी सींग भी बड़ी होनी लगती हैं | गैंडे की आयु काल लगभग 100 साल तक होती हैं | 

गैंडा एक शाकाहारी जानवर हैं जो पत्ते और खास आदि हरी पौधों वाली चीज खाकर अपना जीवन जीती हैं | गैंडे की यह बात जानकर आप को आस्चर्य कर देगी यदि कोई शिकारी गैंडे को गोली मार दे तो वह जमीन पर हर जानवरों की तरह टांगे फैलाकर मरा पड़ा नहीं रहता हैं | बल्कि वह बैठे ही बैठे मर जाता हैं जैसे लग रहा हो वह सो रहा हो | 

 भारत के गैंडे की लम्बाई 12 फिट और ऊंचाई 5-6 फुट तक पाई जाती हैं इसमें नर गैंडे की वजन 2000 किग्रा और मादा गैंडे की वजन 1500 किग्रा पाई जाती हैं | भारत में 1850 तक उत्तर प्रदेश के तराई जगहों और बंगाल तक काफी जनसंख्या में पाए जाते थे | लेकिन गैंडे की प्रजतियाँ तेजी से विलुप्त हो जाने की वजह से गैंडे की जनसंख्या केवल अब असम तक ही पाई जाती हैं | सेव द राइनो संगठन के अनुसार वर्तमान में विश्व में 29000 गैंडे हैं | गैंडे के बारे में 

यह भी जानें :-

दीपक पुनिया के पैर में लगी चोट, फाइनल में पहुंचने से चूक गए