असम सरकार का बड़ा फैसला : असम में दो से अधिक बच्चे होने पर नहीं मिलेगी सरकारी नौकरी : असम सरकार ने देश में बढ़ती जनसंख्या को देखते हुए जनसंख्या पर रोक लगाने के लिए एक बड़ा फैसला असम में लिया | अब असम में 1 जनवरी 2021 से जिनके दो से अधिक बच्चे होंगे उनको सरकारी नौकरी से वंचित होना पड़ेगा | वर्तमान में कार्यकर रहे सरकारी कर्मचारी पर यह फैसला लागू नहीं होता हैं |

नए सिरे से आवेदन करने वालो पर यह फैसला लागू होगा | असम में यदि दो से अधिक बच्चे वाले सरकारी नौकरी धोखे से पा भी जाते है तो सरकार के द्वारा नौकरी के दौरान उसे नौकरी से निकाल दिया जायेगा | 

इससे पहले सितंबर 2017 में असम सरकार ने पॉपुलेशन एंड विमेन एम्पावरमेंट पॉलिसी बिल पास किया था | जिसके तहत यह प्रावधान था की असम में जिनके पास दो बच्चे है उनको ही सिर्फ नौकरी मिलेगी और जिनको नौकरी मिल गई है उनको भी इस फैसले पर ध्यान देना होगा | और सरकार द्वारा बनाये गए नियम का पालन करना होगा | 

असम कैबिनेट की एक अहम बैठक में यह बड़ा फैसला लिया गया | मुख्यमंत्री सर्बानंद सोनोवाल के जनसंपर्क विभाग से जारी एक विज्ञप्ति के अनुसार असम में जिनके दो बच्चे हैं 1 जनवरी 2021 के बाद वे सरकारी नौकरी के योग्य नहीं समझे जाएंगे |  

नई निति के अनुसार यदि असम में दो से अधिक बच्चे पाने वाले व्यक्ति को सरकारी योजनाओं का लाभ नहीं ले पाएंगे जैसे टैक्टर ऋण , आवस मुहैया कराने तथा अन्य सरकारी योजनाओं का लाभ भी नहीं ले पाएंगे | इसके अतिरिक्त राज्य निर्वाचन आयोग के तहत होने वाले पंचायतों , स्वायत्त परिषद और नगम निकाय चुनावों हेतु उम्मीदवारी पेश करने के योग्य नहीं होंगे | 

असम में मंत्रिमंडल की बैठक में भूमि निति को भी मंजूरी दी गई जिसमें असम के वह व्यक्ति जो असम का मूल निवासी हैं और उसके पास कुछ भी जमीन नहीं हैं तो सरकार द्वारा उसे 3 बीघा जमीन दी जायेगी और इसके साथ ही घर बनवाने के आधा बीघा जमीन दी जाएगी |

सरकार के फैसले के मुताबिक जो ब्यक्ति इस योजना का लाभ ले रहा है वह अपनी जमीन 15 साल तक नहीं बेच पायेगा | कैबिनेट के इस बैठक में बसो का किराया भी 25 फीसदी बढ़ाने की घोषणा की हैं | 

आप बता  दे की इस स्वतंत्रता दिवस पर प्रधानमंत्री ने लाल किले पर प्राचीर से प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने बढ़ती जनसंख्या को देखते हुए लोगों का ध्यान बढ़ती जनसंख्या की तरफ खींचा था और बताया हमे आने वाली पीढ़ी के बारे में सोचना चाहिए |

प्रधानमंत्री ने कहा छोटा परिवार होना भी देश के लिए भला हो सकता हैं | एक छोटा परिवार को रखना भी देश भक्ति हैं | हमें उनका भी सम्मान करना चाहिए जो छोटे परिवार से भी देश की सुरक्षा के लिए अपना योगदान देने के लिए आगे आ रहे | 

प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने “ब्रिजिटल नेशन ” पुस्तक का विमोचन किया